शहद सेवन करने के नियम

शहद कभी खराब नहीं होता . यह पका पकाया भोजन है और तुरंत ऊर्जा देने वाला है |



शहद लेते समय कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए |

– अमरुद , गाना , अंगूर और खट्टे फलों के साथ शहद अमृत के सामान है |

– चाय कॉफ़ी के साथ शहद ज़हर के सामान है |

– शहद को आग पर कभी ना तपाये |

– मांस -मछली के साथ शहद का सेवन ज़हर के सामान है |

– शहद में पानी या दूध बराबर मात्रा में हानि कारक है |


– चीनी के साथ शहद मिलाना अमृत मेंज़हर मिलाने के सामान है |

– एक साथ अधिक मात्रा में शहद लेनासेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है .दिन में २ या ३ बार एक चम्मच शहद लें |

– घी , तेल , मक्खन में शहद ज़हर के सामान है |

– शहद खाने से कोई परेशानी महसूस हो तो निम्बू का सेवन करें |

– समान मात्रा में घी और शहद ज़हर होता है |

– अलग अलग वृक्षों पर लगे छत्तों में प्राप्त शहद के अलग अलग औषधीय गुण होंगे . जैसे नीम पर लगा शहद आँखों के लिए , जामुन का डायबिटीज़ और सहजन का ह्रदय , वात और रक्तचाप के लिए अच्छा होता है |

– शीतकाल या बसंतऋतु में विकसित वनस्पति के रस में से बना हुआ शहद उत्तम होता है और गरमी या बरसात में एकत्रित किया हुआ शहद इतना अच्छा नही होता है। गांव या नगर में मुहल्लों में बने हुए शहद के छत्तों की तुलना में वनों में बनें हुए छत्तों का शहद अधिक उत्तम माना जाता है।

– शहद पैदा करनें वाली मधुमक्खियों के भेद के अनुसार वनस्पतियों की विविधता केकारण शहद के गुण, स्वाद और रंग मेंअंतर पड़ता है।

– शहद सेवन करने के बाद गरम पानी भी नहीं पीना चाहिए।

– मोटापा दूर करने के लिए गुनगुने पानी में और दुबलापन दूर करने के लिए गुनगुने दूध के साथ ले |

– अधिक धुप में शहद ना दे . गरमी से पीड़ित व्यक्ति को गरम ऋतु में दिया हुआ शहद जहर की तरह कार्य करता है।

– शहद को जिस चीज के साथ लिया जाये उसी तरह के असर शहद में दिखाई देते है। जैसे गर्म चीज के साथ लें तो- गर्म प्रभाव और ठंडी चीज के साथ लेने से ठंडा असर दिखाई देता है। इसलिए मौसम के अनुसार वस्तुएं शहद के साथ ले |

– ज्यादा मात्रा में शहद का सेवन करने से ज्यादा हानि होती है। इससे पेट में आमातिसार रोग पैदा हो जाता है और ज्यादा कष्ट देता है। इसका इलाज ज्यादा कठिन है। फिर भी यदि शहद के सेवन से कोई कठिनाई हो तो 1 ग्राम धनिया का चूर्ण सेवन करके ऊपर से बीस ग्राम अनार का सिरका पी लेना चाहिए।
-बच्चे बीस से पच्चीस ग्राम और बड़े चालीस से पचास ग्राम से अधिक शहद एक बार में न सेवन करें। लम्बे समय तक
अधिक मात्रा में शहद का सेवन न करें।

– चढ़ते हुए बुखार में दूध, घी, शहद का सेवन जहर के तरह है।

-यदि किसी व्यक्ति ने जहर या विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया हो उसे शहद खिलाने से जहर का प्रकोप एक-दम बढ़कर मौत तक हो सकती है।

Advertisements

Papaya – The World’s Healthiest Foods

पपीता एक ऐसा मधुर फल है जो सस्ता एवं सर्वत्र सुलभ है। यह फल प्राय: बारहों मास पाया जाता है। किन्तु फरवरी से मार्च तथा मई से अक्तूबर के बीच का समय पपीते की ऋतु मानी जाती है। कच्चे पपीते में विटामिन ‘ए’ तथा पके पपीते में विटामिन ‘सी’ की मात्रा भरपूर पायी जाती है।


आयुर्वेद में पपीता (पपाया) को अनेक असाध्य रोगों को दूर करने वाला बताया गया है। संग्रहणी, आमाजीर्ण, मन्दाग्नि, पाण्डुरोग (पीलिया), प्लीहा वृध्दि, बन्ध्यत्व को दूर करने वाला, हृदय के लिए उपयोगी, रक्त के जमाव में उपयोगी होने के कारण पपीते का महत्व हमारे जीवन के लिए बहुत अधिक हो जाता है।

 पपीते के सेवन से चेहरे पर झुर्रियां पड़ना, बालों का झड़ना, कब्ज, पेट के कीड़े, वीर्यक्षय, स्कर्वी रोग, बवासीर, चर्मरोग, उच्च रक्तचाप, अनियमित मासिक धर्म आदि अनेक बीमारियां दूर हो जाती है। पपीते में कैल्शियम, फास्फोरस, लौह तत्व, विटामिन- ए, बी, सी, डी प्रोटीन, कार्बोज, खनिज आदि अनेक तत्व एक साथ हो जाते हैं। पपीते का बीमारी के अनुसार प्रयोग निम्नानुसार किया जा सकता है।

 

१) पपीते में ‘कारपेन या कार्पेइन’ नामक एक क्षारीय तत्व होता है जो रक्त चाप को नियंत्रित करता है। इसी कारण उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) के रोगी को एक पपीता (कच्चा) नियमित रूप से खाते रहना चाहिए।
२) बवासीर एक अत्यंत ही कष्टदायक रोग है चाहे वह खूनी बवासीर हो या बादी (सूखा) बवासीर। बवासीर के रोगियों को प्रतिदिन एक पका पपीता खाते रहना चाहिए। बवासीर के मस्सों पर कच्चे पपीते के दूध को लगाते रहने से काफी फायदा होता है।
३) पपीता यकृत तथा लिवर को पुष्ट करके उसे बल प्रदान करता है। पीलिया रोग में जबकि यकृत अत्यन्त कमजोर हो जाता है, पपीते का सेवन बहुत लाभदायक होता है। पीलिया के रोगी को प्रतिदिन एक पका पपीता अवश्य खाना चाहिए। इससे तिल्ली को भी लाभ पहुंचाया है तथा पाचन शक्ति भी सुधरती है।
४) महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म एक आम शिकायत होती है। समय से पहले या समय के बाद मासिक आना, अधिक या कम स्राव का आना, दर्द के साथ मासिक का आना आदि से पीड़ित महिलाओं को ढाई सौ ग्राम पका पपीता प्रतिदिन कम से कम एक माह तक अवश्य ही सेवन करना चाहिए। इससे मासिक धर्म से संबंधित सभी परेशानियां दूर हो जाती है।
५) जिन प्रसूता को दूध कम बनता हो, उन्हें प्रतिदिन कच्चे पपीते का सेवन करना चाहिए। सब्जी के रूप में भी इसका सेवन किया जा सकता है।
६) सौंदर्य वृध्दि के लिए भी पपीते का इस्तेमाल किया जाता है। पपीते को चेहरे पर रगड़ने से चेहरे पर व्याप्त कील मुंहासे, कालिमा व मैल दूर हो जाते हैं तथा एक नया निखार आ जाता है। इसके लगाने से त्वचा कोमल व लावण्ययुक्त हो जाती है। इसके लिए हमेशा पके पपीते का ही प्रयोग करना चाहिए।
७) कब्ज सौ रोगों की जड़ है। अधिकांश लोगों को कब्ज होने की शिकायत होती है। ऐसे लोगों को चाहिए कि वे रात्रि भोजन के बाद पपीते का सेवन नियमित रूप से करते रहें। इससे सुबह दस्त साफ होता है तथा कब्ज दूर हो जाता है।
८) समय से पूर्व चेहरे पर झुर्रियां आना बुढ़ापे की निशानी है। अच्छे पके हुए पपीते के गूदे को उबटन की तरह चेहरे पर लगायें। आधा घंटा लगा रहने दें। जब वह सूख जाये तो गुनगुने पानी से चेहरा धो लें तथा मूंगफली के तेल से हल्के हाथ से चेहरे पर मालिश करें। ऐसा कम से कम एक माह तक नियमित करें।
९) नए जूते-चप्पल पहनने पर उसकी रगड़ लगने से पैरों में छाले हो जाते हैं। यदि इन पर कच्चे पपीते का रस लगाया जाए तो वे शीघ्र ठीक हो जाते हैं।
१०) पपीता वीर्यवर्ध्दक भी है। जिन पुरुषों को वीर्य कम बनता है और वीर्य में शुक्राणु भी कम हों, उन्हें नियमित रूप से पपीते का सेवन करना चाहिए।
११) हृदय रोगियों के लिए भी पपीता काफी लाभदायक होता है। अगर वे पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर नियमित रूप से एक कप की मात्रा में रोज पीते हैं तो अतिशय लाभ होता है।

FIBER: Importance & Benefits

For one to stay healthy, proper diet and regular exercise is very important. According to the Journal of American Medical Association (JAMA), as we grow older, it becomes necessary to consume a diet which is rich in fiber and low in carbohydrates, and this consists of about 20 to 35 grams of fiber per day.

What Is Fiber?

Fiber is also known as roughage. It is the indigestible part of plant foods that pushes through our digestive system, absorbing water along the way and easing bowel movements.

The word fiber (North American) can also be spelled fibre (British). It comes from the Latin word fibra, meaning fiber, thread, string, filament, entrails. Dietary fiber refers to nutrients in the diet that are not digested by gastrointestinal enzymes.

Fiber is found in all plant foods, like vegetables and fruits as well as in legumes and whole grains. This complex food element is not absorbed or digested completely like most other food, and passes through the digestive tract mostly as a whole. This way of digesting helps in the movement of stool and harmful carcinogens from the body.

Types of Fiber

A fiber-rich diet must include both types of fiber – soluble and insoluble.

Soluble Fiber – Soluble fiber dissolves in water. It changes as it goes through the digestive tract, where it is fermented by bacteria. As it absorbs water it becomes gelatinous. The food rich in soluble fiber are oats, oat bran, legumes, and fruits. These dissolve with water in the body and form a gel like substance that helps in lowering the cholesterol and glucose level.

Insoluble Fiber – Insoluble fiber does not dissolve in water. As it goes through the digestive tract it does not change its form. Food like whole wheat bran, wheat, rye, sprouts, and nuts are rich in insoluble fiber. Intake of these aid in moving waste from the body through the digestive tract as these fibers absorb water and form a bulk which moves quickly.

Benefits

A high fiber diet has no calories and helps in weight loss (as it gives a feeling of fullness and helps in eating less), fights constipation, and regulates digestive disorders. Low fiber diet increases the risk of colon cancer and heart ailments.

Benefits of soluble fiber:

It reduces cholesterol, especially levels of LDL (bad cholesterol) It regulates sugar intake, this is especially useful for people with diabetes and metabolic syndrome. Food sources of soluble fiber include: kidney beans, pinto beans, brussels sprouts, broccoli, spinach, zucchini, apples, oranges, grapefruit, grapes, prunes, oatmeal, and whole-wheat bread.

Benefits of insoluble fiber:

Promotes regular bowel movements and prevents constipation Speeds up the elimination of toxic waste through the colon By keeping an optimal pH in the intestines, insoluble fiber helps prevent microbes from producing substances which can lead to colorectal cancer Food sources of insoluble fiber include: vegetables – especially dark green leafy ones, root vegetable skins, fruit skins, whole wheat products, wheat bran, corn bran, nuts, and seeds.

It is important to note that a balanced diet should consist of all food forms. One must not eliminate other food to consume high fiber diet. Just make sure that your diet has good fiber as it will reduce the risk of ailments like cancer, diabetes, and gastrointestinal problems, and also help in losing weight.