Food combinations bad for digestion

Five faulty food combinations – 

Animal protein and carbohydrates: Different enzymes are required to breakdown these very different foods. When eaten together, the foods do not get properly digested. That leads to indigestion, fermentation and putrefaction in the digestive tract.

Fruit with carbohydrates: Fruit digests much more quickly than any other food. Many people think that adding fruit to porridge is a healthy breakfast option. However, it will only hinder the digestive process. It’s better to always eat fruit on an empty stomach and ideally early in the morning.



Dairy with fruit: Smoothies are a breakfast favourite for many people. The problem is that yogurt is an animal protein and when mixed with fruit, it can cause inadequate digestion which leads to acidity, and fermentation in the GI tract.

 


Avoid drinking with meals: It’s best to avoid drinking large amounts of any fluid with meals, otherwise the digestive enzymes will become diluted and hinder the digestive process. It’s best to stop drinking 30 minutes before food intake and wait two hours after eating before drinking water, to ensure adequate digestion.

 


Melon after dinner for a healthy dessert: Melon is the one fruit that must be eaten alone, or left alone, as it takes slightly longer than other fruits to digest.


Five useful food combinations – 

* Carbohydrates and vegetables such as brown rice and vegetables.

* Animal protein and non-starchy vegetables make for easy digestion, which will enhance one’s ability to breakdown the nutrients and eliminate efficiently. Prawns on a bed of green leaves with cucumber and fennel or grilled fish with lightly steamed green beans.

* Bowl of seasonal fruit salad first thing in the morning. This is a gentle way to wake up the system.

* Avocados combine well with either vegetables or fruits. This semi tropical fruit also works well in green smoothies and makes a great dairy replacement.

* Aim to ingest denser proteins, especially animal-based ones earlier in the day to ensure adequate digestion. 
 

शहद सेवन करने के नियम

शहद कभी खराब नहीं होता . यह पका पकाया भोजन है और तुरंत ऊर्जा देने वाला है |



शहद लेते समय कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए |

– अमरुद , गाना , अंगूर और खट्टे फलों के साथ शहद अमृत के सामान है |

– चाय कॉफ़ी के साथ शहद ज़हर के सामान है |

– शहद को आग पर कभी ना तपाये |

– मांस -मछली के साथ शहद का सेवन ज़हर के सामान है |

– शहद में पानी या दूध बराबर मात्रा में हानि कारक है |


– चीनी के साथ शहद मिलाना अमृत मेंज़हर मिलाने के सामान है |

– एक साथ अधिक मात्रा में शहद लेनासेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है .दिन में २ या ३ बार एक चम्मच शहद लें |

– घी , तेल , मक्खन में शहद ज़हर के सामान है |

– शहद खाने से कोई परेशानी महसूस हो तो निम्बू का सेवन करें |

– समान मात्रा में घी और शहद ज़हर होता है |

– अलग अलग वृक्षों पर लगे छत्तों में प्राप्त शहद के अलग अलग औषधीय गुण होंगे . जैसे नीम पर लगा शहद आँखों के लिए , जामुन का डायबिटीज़ और सहजन का ह्रदय , वात और रक्तचाप के लिए अच्छा होता है |

– शीतकाल या बसंतऋतु में विकसित वनस्पति के रस में से बना हुआ शहद उत्तम होता है और गरमी या बरसात में एकत्रित किया हुआ शहद इतना अच्छा नही होता है। गांव या नगर में मुहल्लों में बने हुए शहद के छत्तों की तुलना में वनों में बनें हुए छत्तों का शहद अधिक उत्तम माना जाता है।

– शहद पैदा करनें वाली मधुमक्खियों के भेद के अनुसार वनस्पतियों की विविधता केकारण शहद के गुण, स्वाद और रंग मेंअंतर पड़ता है।

– शहद सेवन करने के बाद गरम पानी भी नहीं पीना चाहिए।

– मोटापा दूर करने के लिए गुनगुने पानी में और दुबलापन दूर करने के लिए गुनगुने दूध के साथ ले |

– अधिक धुप में शहद ना दे . गरमी से पीड़ित व्यक्ति को गरम ऋतु में दिया हुआ शहद जहर की तरह कार्य करता है।

– शहद को जिस चीज के साथ लिया जाये उसी तरह के असर शहद में दिखाई देते है। जैसे गर्म चीज के साथ लें तो- गर्म प्रभाव और ठंडी चीज के साथ लेने से ठंडा असर दिखाई देता है। इसलिए मौसम के अनुसार वस्तुएं शहद के साथ ले |

– ज्यादा मात्रा में शहद का सेवन करने से ज्यादा हानि होती है। इससे पेट में आमातिसार रोग पैदा हो जाता है और ज्यादा कष्ट देता है। इसका इलाज ज्यादा कठिन है। फिर भी यदि शहद के सेवन से कोई कठिनाई हो तो 1 ग्राम धनिया का चूर्ण सेवन करके ऊपर से बीस ग्राम अनार का सिरका पी लेना चाहिए।
-बच्चे बीस से पच्चीस ग्राम और बड़े चालीस से पचास ग्राम से अधिक शहद एक बार में न सेवन करें। लम्बे समय तक
अधिक मात्रा में शहद का सेवन न करें।

– चढ़ते हुए बुखार में दूध, घी, शहद का सेवन जहर के तरह है।

-यदि किसी व्यक्ति ने जहर या विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया हो उसे शहद खिलाने से जहर का प्रकोप एक-दम बढ़कर मौत तक हो सकती है।

Health benefits of eating Tomatoes

1- Helps to keep blood vessels healthy

2- Rich in lycopene to promote prostate health
3- Full of vitamin C to keep immune system strong
4- A good source of beta-carotene for healthy vision

5- Studies have shown tomatoes help prevent breast cancer.
6- Contains compounds to help lower cholesterol

7- Rich in potassium for heart health
8- Full of vitamin E to keep skin healthy and beautiful
9- The skin is full of carotenoids tomatoes to promote wellness
10- Rich in energizing B vitamins to help you stay active

HEALTH BENEFITS OF MUSIC

1. Heightens Awareness: Musical (non-verbal) and verbal interaction with others, enhances awareness of self and others.

2. Share Feelings: Offers opportunities for individuals to openly share their feelings and to experience a sense of ‘universality’.

3. Improves Self Belief: Music allows everyone to express themselves creatively without the need to follow any strict guidelines, processes or norms.

4. Skill Development: Plays an important role in the development of physical, sensory and cognitive skills, extending your visual perception.

5. Improves Focus: Music helps improve your concentration and attention span.

6. Motivation Booster: Increases self-confidence, self-esteem, personal insight and motivation.


7. Sense of Independence: Leads to development of independent, decision-making skills.

8. Improves Quality of Life: Provides immense satisfaction, enjoyment and an overall improvement in quality of life.

9. Creates Relaxed Environment: Provides a relaxed environment that enables better social interactions.

10. Anti depressant: Music calms the nerves and decreases tension, anxiety and stress. Your heart loves it.

11. Sharpens Motor Skills: Musicians have more evolved gross and fine motor skills.

12. Improves Memory: Musicians have sharper sequential memory and shorter recall time.

13. Improves Discipline: Trains the mind towards self-management and inculcates discipline.

14. Amps up happiness levels: Deeply engaging with music, rather than allowing it to wash over us, gives the experience enhanced emotional power and happiness.


15. Rehabilitation: Music therapy is widely used for patients with visual, sensory or motor disabilities, induced through stroke.

16. Effective Learning Aid: The inherent structure and emotional pull of music makes it an easy tool for teaching concepts, ideas, and information.

17. Shortens Recall Time: Music is second only to smell for its ability to stimulate our memory in a very powerful way. Music therapists use this while working with patients suffering from dementia and amnesia.

18. Easy Storage: Music, with its rhythmic patterns is easy for the brain to store and recall: predictable, structured, and organized–and our brain just loves it that way!

Symptoms not to be ignored

1. Constant coughing. If you’ve recently had flu, a cough will linger for a few days or even a few weeks. But if you have a cough which has moved in lock, stock and barrel, it’s time to get to the doctor. It could be one of several things, from tuberculosis, a chest infection and lung cancer, to name but a few.

2. Rectal bleeding. If your stools are dark in colour and you become aware of the fact that you regularly bleed from the anus, make that appointment. It could be any of a number of things, from benign (bleeding piles) to serious (colon cancer), but don’t take any chances.

3. Blinding headaches. Everyone gets headaches from time to time, but if you start missing work regularly and live on painkillers, the time for action has come. It could be as simple as getting different glasses, changing your diet/lifestyle, or it could be more serious. Best to get to the truth as soon as possible.

4. Vision problems. Everyone’s vision deteriorates somewhat with age, but if your vision becomes blurry overnight, or changes in any other noticeable way, see an optician and a neurologist. It may be something insignificant, but it may also be serious.

5. Fever. If your temperature fluctuates between high and normal for no discernable reason, find out what’s wrong. If you run a fever for more than 3 days, visit your doctor.

6. Ongoing diarrhoea. Whether the result of food poisoning or a virus, diarrhoea is dangerous. And the longer it continues, the more dangerous it becomes, as it dehydrates you. If you regularly get diarrhoea, or if it carries on for more than two or three days, see the doctor. If your baby has diarrhoea, don’t waste a day before you see your doctor/nurse.

7. Chest pains. This could be as innocent as heartburn, but it could also signal that your heart is in trouble. If chest discomfort is accompanied by pains in your left arm, don’t bother with the GP – get straight to the hospital’s emergency room. You could be having a heart attack.

8. Night sweats. Sweating at night is not normal – it is often a symptom of tuberculosis, Aids or Hodgkin’s disease, which is a lymphatic cancer. Do something about it.

9. Genital sores. These are usually a symptom of a sexually transmitted disease. They should not be ignored, as this disease can be passed on to others, regardless of what it might be doing to you.

10. Menstrual problems or paralysis. A menstrual period that lasts more than ten days, or doesn’t arrive at all, should not be ignored. Non-arrival could mean you’re pregnant, or have fibroids or cysts on your ovaries. A period that overstays its welcome could mean many different things – point is, you should get to gynaecologist.

11. New moles. Most people have moles somewhere on their bodies. If a mole changes its colour, shape or size, it could be turning nasty. Watch out for new moles. It will not go away by itself and if left untreated, can ultimately become life-threatening.

12. Sudden muscle weakness. If you suddenly find you have difficulty standing, walking, balancing or that muscles that were fine the day before have become weak and useless, get it checked out. It could be, among other things, Parkinson’s disease or you may even have had a mild stroke. And yes, young people can have strokes too.

13. Breathing difficulties. Sudden onset of breathing difficulties could signify many things – from asthma, to an allergic reaction, to name but two. It should be remembered that untreated asthma can kill. Breathing problems can quickly become life-threatening. Don’t ignore it.

14. Constant urination. Everyone urinates a few times per day, but when you start getting up three or four times during the night to go to the toilet, something is wrong. It could be prostate problems or the onset of Type 2 diabetes or a bladder infection.

15. Bumps and lumps. Whether we’re talking swollen glands or lumps under the skin, these should never be ignored. Better be safe than sorry. It may be something benign like a mild infection or a pimple or boil, but then again, it may not. Do something about it.

16. Chronic exhaustion. Between working nine-to-five and keeping the family going, most people are tired, and not surprisingly. But when you suddenly feel as if getting out of bed in the morning is a major undertaking, something could be wrong. It may be depression, or the exhaustion could be a symptom of other ailments.

17. Loss of interest in life. If you or family members suspect you may be depressed, why suffer unnecessarily? We are no longer in the fourteenth century and depression can be treated. Most people who commit suicide suffer from depression. Up those serotonin levels before you get to these levels of desperation.

गरम पानी पीने के फायदे

सफाई और शुद्धी– यह शरीर को अंदर से साफ करता है। अगर आपका पाचन तंत्र सही नहीं रहता है, तो आपको दिन में दो बार गरम पानी पीना चाहिये। सुबह गरम पानी पीने से शरीर के सारे विशैले तत्‍व बाहर निकल जाते हैं, जिससे पूरा सिस्‍टम साफ हो जाता है। नींबू और शहद डालने से बड़ा फायदा होता है।

 

कब्‍ज दूर करे– शरीर में पानी की कमी हो जाने की वजह से कब्‍ज की समस्‍या पैदा हो जाती है। रोजाना एक ग्‍लास सुबह गरम पानी पीने से फूड पार्टिकल्‍स टूट जाएंगे और आसानी से मल बन निकल जाएंगे। 

मोटापा कम करे– सुबह के समय या फिर हर भोजन के बाद एक ग्‍लास गरम पानी में नींबू और शहद मिला कर पीने से चर्बी कम होती है। नींबू मे पेकटिन फाइबर होते हैं जो बार-बार भूख लगने से रोकते हैं।

सर्दी और जुखाम के लिये– अगर गले में दर्द या फिर टॉन्‍सिल हो गया हो, तो गरम पानी पीजिये। गरम पानी में हल्‍का सा सेंधा नमक मिला कर पीने से लाभ मिलता है।

खूब पसीना बहाए– जब भी आप कोई गरम चीज़ खाते या पीते हैं, तो बहुत पसीना निकलता है। ऐसा तब होता है जब शरीर का टम्‍परेचर बढ जाता है और पिया गया पानी उसे ठंडा करता है, तभी पसीना निकलता है। पसीने से त्‍वचा से नमक बाहर निकलता है और शरीर की अशुद्धी दूर होती है।

शरीर का दर्द दूर करे– मासकि शुरु होने के दिनो में पेट में दर्द होता है, तब गरम पानी में इलायची पाउडर डाल कर पिएं। इससे ना केवल मासिक का दर्द बल्कि शरीर, पेट और सिरदर्द भी सही हो जाता है।

Papaya – The World’s Healthiest Foods

पपीता एक ऐसा मधुर फल है जो सस्ता एवं सर्वत्र सुलभ है। यह फल प्राय: बारहों मास पाया जाता है। किन्तु फरवरी से मार्च तथा मई से अक्तूबर के बीच का समय पपीते की ऋतु मानी जाती है। कच्चे पपीते में विटामिन ‘ए’ तथा पके पपीते में विटामिन ‘सी’ की मात्रा भरपूर पायी जाती है।


आयुर्वेद में पपीता (पपाया) को अनेक असाध्य रोगों को दूर करने वाला बताया गया है। संग्रहणी, आमाजीर्ण, मन्दाग्नि, पाण्डुरोग (पीलिया), प्लीहा वृध्दि, बन्ध्यत्व को दूर करने वाला, हृदय के लिए उपयोगी, रक्त के जमाव में उपयोगी होने के कारण पपीते का महत्व हमारे जीवन के लिए बहुत अधिक हो जाता है।

 पपीते के सेवन से चेहरे पर झुर्रियां पड़ना, बालों का झड़ना, कब्ज, पेट के कीड़े, वीर्यक्षय, स्कर्वी रोग, बवासीर, चर्मरोग, उच्च रक्तचाप, अनियमित मासिक धर्म आदि अनेक बीमारियां दूर हो जाती है। पपीते में कैल्शियम, फास्फोरस, लौह तत्व, विटामिन- ए, बी, सी, डी प्रोटीन, कार्बोज, खनिज आदि अनेक तत्व एक साथ हो जाते हैं। पपीते का बीमारी के अनुसार प्रयोग निम्नानुसार किया जा सकता है।

 

१) पपीते में ‘कारपेन या कार्पेइन’ नामक एक क्षारीय तत्व होता है जो रक्त चाप को नियंत्रित करता है। इसी कारण उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) के रोगी को एक पपीता (कच्चा) नियमित रूप से खाते रहना चाहिए।
२) बवासीर एक अत्यंत ही कष्टदायक रोग है चाहे वह खूनी बवासीर हो या बादी (सूखा) बवासीर। बवासीर के रोगियों को प्रतिदिन एक पका पपीता खाते रहना चाहिए। बवासीर के मस्सों पर कच्चे पपीते के दूध को लगाते रहने से काफी फायदा होता है।
३) पपीता यकृत तथा लिवर को पुष्ट करके उसे बल प्रदान करता है। पीलिया रोग में जबकि यकृत अत्यन्त कमजोर हो जाता है, पपीते का सेवन बहुत लाभदायक होता है। पीलिया के रोगी को प्रतिदिन एक पका पपीता अवश्य खाना चाहिए। इससे तिल्ली को भी लाभ पहुंचाया है तथा पाचन शक्ति भी सुधरती है।
४) महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म एक आम शिकायत होती है। समय से पहले या समय के बाद मासिक आना, अधिक या कम स्राव का आना, दर्द के साथ मासिक का आना आदि से पीड़ित महिलाओं को ढाई सौ ग्राम पका पपीता प्रतिदिन कम से कम एक माह तक अवश्य ही सेवन करना चाहिए। इससे मासिक धर्म से संबंधित सभी परेशानियां दूर हो जाती है।
५) जिन प्रसूता को दूध कम बनता हो, उन्हें प्रतिदिन कच्चे पपीते का सेवन करना चाहिए। सब्जी के रूप में भी इसका सेवन किया जा सकता है।
६) सौंदर्य वृध्दि के लिए भी पपीते का इस्तेमाल किया जाता है। पपीते को चेहरे पर रगड़ने से चेहरे पर व्याप्त कील मुंहासे, कालिमा व मैल दूर हो जाते हैं तथा एक नया निखार आ जाता है। इसके लगाने से त्वचा कोमल व लावण्ययुक्त हो जाती है। इसके लिए हमेशा पके पपीते का ही प्रयोग करना चाहिए।
७) कब्ज सौ रोगों की जड़ है। अधिकांश लोगों को कब्ज होने की शिकायत होती है। ऐसे लोगों को चाहिए कि वे रात्रि भोजन के बाद पपीते का सेवन नियमित रूप से करते रहें। इससे सुबह दस्त साफ होता है तथा कब्ज दूर हो जाता है।
८) समय से पूर्व चेहरे पर झुर्रियां आना बुढ़ापे की निशानी है। अच्छे पके हुए पपीते के गूदे को उबटन की तरह चेहरे पर लगायें। आधा घंटा लगा रहने दें। जब वह सूख जाये तो गुनगुने पानी से चेहरा धो लें तथा मूंगफली के तेल से हल्के हाथ से चेहरे पर मालिश करें। ऐसा कम से कम एक माह तक नियमित करें।
९) नए जूते-चप्पल पहनने पर उसकी रगड़ लगने से पैरों में छाले हो जाते हैं। यदि इन पर कच्चे पपीते का रस लगाया जाए तो वे शीघ्र ठीक हो जाते हैं।
१०) पपीता वीर्यवर्ध्दक भी है। जिन पुरुषों को वीर्य कम बनता है और वीर्य में शुक्राणु भी कम हों, उन्हें नियमित रूप से पपीते का सेवन करना चाहिए।
११) हृदय रोगियों के लिए भी पपीता काफी लाभदायक होता है। अगर वे पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर नियमित रूप से एक कप की मात्रा में रोज पीते हैं तो अतिशय लाभ होता है।